Thursday, April 7, 2011

अब क्या होगा

अब क्या होगा

सम्वेदन शून्य हो गया मनुज अब क्या होगा
शासन का डर रह नही गया क्या होगा
पुलिस खड़ी है मूक बनी पिटने के डर से
गुंडे बदमाश घुमते खुले आम अब क्या होगा

पुलिस किसी को कहती है कि रुक जाओ
वो कहता है गाड़ी के आगे आओ
और कुचल कर आसानी से जाता है
ये कैसा कानून जरा तो बतलाओ

रोके पुलिस किसी शातिर अपराधी को
फोन मिला कर देता वो अधिकारी को
छोडो किस को रोका ये तो अपना है
फिर सैल्यूट मरता वो अपराधी को

कुछ भी कर लो जब बेशर्मी पर आये हैं
भ्रष्टाचार नही रोकेंगे चुन कर आये हैं
नही चलेगा गाँधी का उपवास यहाँ
अंग्रेजों से ही तो हम सत्ता पायें हैं

एक हजारे क्या सौ २ भी भूखे मर लें
जन्तर मन्तर पर बेशक वे हल्ला कर लें
और समर्थन कर ले बेशक इन का कोई
हम क्यों फंदा अपने गल में खुद ही धर लें

7 comments:

अरुण चन्द्र रॉय said...

behad samvedansheel kavita.. kavi dharm nibha rahe hain aap !

प्रवीण पाण्डेय said...

दुख तो यही है पर यही हो रहा है।

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

होगा कुछ परिवर्तन तो होगा ...विश्वास पर दुनिया कायम है

वन्दना said...

वक्त सब हालात बदल देता है दिल का दर्द बखूबी उजागर किया है।

अनामिका की सदायें ...... said...

Bahut katu sataye ujagar kiye hain aapne. kavi apni lekhni se inklaab la sakta hai chahe vo utsah jaga kar, krodh jaga kar ya himmat dekar kiya jaye...aap apni lekhni se inklaab laa rahe hain.

mridula pradhan said...

bahut achcha likhe hain.

सुनील गज्जाणी said...

PRANAM !
SUNDER RACHNA SUNDER BHAAV .
SADHUWAD!