Wednesday, August 18, 2010

जब हुए चर्चे तभी पहचान उन की हो सकी
वरना उन को इस शहर में जनता ही कौन था
चोट खा दुनिया से उन का मन भी हल्का हो गया
वरना मन के बोझ को पहचानता ही कौन था
हाथ सब ने ही उठाये थे समर्थन के लिए
सच जो कहता खड़ा हो शख्श ऐसा कौन था
सब तरफ बस एक ही चर्चा रही इस शहर में
कर दिया बदनाम मुझ को दोस्त ऐसा कौन था
नाम क्यों लेता किसी का जब हुआ बदनाम मैं
थी पता मुझ यह साजिश में शामिल कौन था
बढ़ रही थी भीड़ बिन सोचे उसे जाना कहाँ
रोकता जो भीड़ को वो शख्श ऐसा कौन था
आग को पी कर भी वो जिन्दा रहा दरसाल दर
एक मैं हूँ दूसरा तुम ही बताओ कौन था
बिन बताये नाम मेरा लिख दिया उस बुत पर
पर समझ आया नही वो लिखने वाला कौन था
इस शहर में हादसे का वक्त तुम से क्या कहूं
हादसा जब न हुआ हों वक्त ऐसा कौन था
दोस्त था दुश्मन था इस का फैसला कैसे करूं
दे गया जो फूल मेरे हाथ में वो कौन था
दोस्त था दुश्मन था इस का फैसला कैसे करूं
दे गया जो दाद मेरे शेर पर वो कौन था
याद मुझ को कहाँ थी मेरे जन्म दिन की तिथि
दे गया मुझ को बधाई शख्श ऐसा कौन था

3 comments:

Patali-The-Village said...

शर्मा जी, दिल को छू लेने वाली प्रस्तुति है धन्यवाद्|

सुनील दत्त said...

सोचने पर मजबूर कर देने वाली प्रस्तुती

सुज्ञ said...

मुखर अभिव्यक्ति