Sunday, March 21, 2010

माला महिमा

नोटों की माला का कैसा नया चलन अब आया है
भूखों की रोटी छिनी है कैसा खेल दिखाया है
पर मूर्ख वे लोग खुदी हैं जो ऐसे लुट जाते हैं
जात पांत के नाम पै कैसा २ नाच दिखाते हैं

माला तो है खूब उजागर कुछ लेते बिन माला के
सब को रहती पता यहाँ पर ऐसी गड़बड़ झाला के
पर किस की कब कौन कह रहा सब हमाम में नंगे हैं
भूखे मर जायेंगे नेता बिना लिए इस माला के

काश इसी माला में से ही होरी को कुछ मिल जाता
वो भी अपने फटे हल को थोडा सा तो सिल पता
पर ऐसे कैसे हो सकता कहाँ हुई गिनती उस की
रुपया तो केवल उस के इन आकाओं पर जाता है

डॉवेद व्यथित

1 comment: