Tuesday, March 9, 2010

भीड़ का चेहरा

भीड़ का चेहरा

बदली नही है भीड़
वर्षों वर्ष चलते हुए भी
वही लोग हैं उस में
वही चल है उन की
और उन्ही नारों की तख्तियां
उठाये हुए हैं वे हाथों में

किसी ने भी नही की है
कोशिश इसे रोकने की
कुछ पूछने की
या आगे जो बहुत बड़ी खाई है
उसे बताने की
बिलकुल कोशिश नही की है

परन्तु वास्तव में तो
भीड़ सुनती भी कहाँ उस की
उस ने सोचा भी था
एक क्षण रुका भी था वह
उस ने हाथ भी उठाया था
भीड़ को रोकने के लिए
कुछ शब्द जहन में उभरे भी थे
परन्तु बीच में ही रुक गया था वह
शब्द बाहर नही आ पाए थे उस के
होठ सिले के सिले ही रह गये

परन्तु भीड़
उसे धकियाते हुए आगे बढने लगी
वह कितने धक्के और झेलता भीड़ के
नही वह नही सह सका
अपनी ओर उठती भीड़ की उँगलियों को
क्रूरता से घूरती निगाहों को
अट्टहास कर उपहास उड़ाती आवाजों को
वह नही सह सका
और शामिल हो गया भीड़ में
परन्तु फिर भी
अपने आप को अलग मान कर
चलता रहा वह
उस भीड़ में
डॉ. वेद व्यथित

3 comments:

shikha varshney said...

behtareen abhivyakti ..

sangeeta swarup said...

भीड़ का यथार्थ चित्रण किया है....बधाई

vedvyathit said...

main aap dono ke prti tatha jin pathkon ne ise pdha hai un sabhi ke prti hrdy se aabhari hoon
dr.ved vyathit