Sunday, August 21, 2011

jai sri krishn

भगवान का ही कार्य है आज सत्य की विजय के लिए किये गये उन के कार्य को गौण बना कर भगवान की एक अनुचित छवि प्रस्तुत कर रहे हैं ये लोग जब कि भगवान ने बाल काल से आज योगिराज भगवान श्री कृष्ण का प्राकट्य दिवस है अत: भगवान के प्रति श्रद्धा निवेदन करना हर भारतीय का कर्तव्य है यह श्रद्धा उन के मानवता के प्रति कए गये कार्यों के प्रति समर्पण भाव से किये गये कार्य ही हैं इस लिए उन के चरित्र को बदनाम करने वाले तथाकथित कुछ भागवत कथा वाचकों द्वारा जिस प्रकार बिगाड़ा जा रहा है उस का प्रतिकार भी ही अन्याय का विरोद्ध किया था और प्रत्येक मनुष्य को धर्म युद्ध के लिए तत्पर होने को कहा था तथा धर्म के लिए बलिदान देना ही जिन्होंने धर्म बताया था आज वैसी ही परिस्थिति हैं
जिस के लिए हम को तत्पर रहना ही होगा नही तो अधर्म सब तरफ बढ़ते २ पूरी पृथ्वी पर छा जाएगा आओ भगवान को नमन करते हुए अधर्म के नाश के लिए आगे बढ़ें ||

2 comments:

वन्दना said...

कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें

प्रवीण पाण्डेय said...

संभवामि युगे युगे।